पृष्ठभूमि

जननी एक्सप्रेस जननी एक्सप्रेस सेवा के अन्तर्गत प्रदेष के सभी 313 विकासखण्डो मे कुल 940 वाहन लोक निजी भागीदारी के तहत संचालित है । प्रसूता महिलाओं तथा बीमार बच्चो के परिवहन हेतु आकल्पित इस योजना को प्रदेष मे 2006 मे प्रारम्भ किया गया । इस सेवा के अन्तर्गत न्यूनतम दरो पर अधिकाधिक हितग्राहियो का परिवहन किया जाता है। इस योजना के अन्तर्गत अनुबधित वाहनो का संचालन अषासकीय संस्थाओं व्दारा किया जाता है। इस हेतु जिला स्तर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी व्दारा निविदा आंमत्रित कर अनुबन्ध किया जाता है। प्रत्येक विकासखण्ड मे 2 से 3 वाहनो हेतु अनुबन्ध किया जाता हैं। इन वाहनो का नियंत्रण प्रत्येक जिले मे स्थापित पृथक काल सेन्टर से किया जाता है। वर्ष 2014-15 मे राष्टीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिषन की कार्ययोजना मे 1050 वाहनो का संचालन प्रस्तावित किया गया है। जिस पर भारत सरकार व्दारा सहमति व्यक्त की गई है। जननी एक्सपे्रस योजना के अन्तर्गत अप्रैल से मार्च 2015 तक कुल 5,68,700 गर्भवती महिलाओं को घर से चिकित्सालय तक पहुचाया गया तथा 5,27,782 महिलाओं को प्रसव उपरान्त अस्पताल से घर तक पहुंचाया गया तथा एक अस्पताल से दूसरे उच्च स्वास्थ्य संस्थान तक कुल 1,41,047 हितग्राहियो को पहुचाया गया ।